Saturday, June 25, 2011

hindi Syllabus as per Credit Based Semester and Grading System/F.Y.B.A.


                  Enclosure to Item No. 4.30
A.C. 25/05/2011





 
UNIVERSITY OF MUMBAI
 
              Your browser may not support display of this image.   
Syllabus for F.Y.B.A. (Compulsory & Ancillary) 
    Program : B.A. Course : Hindi  
    Your browser may not support display of this image. (Credit Based Semester and Grading System with effect from the academic year 2011‐2012)

     
1. Syllabus as per Credit Based Semester and Grading System.


i.Name of the Programme
    - B.A.

ii.

iii.

Course Code

Course Title

     
    ‐ Hindi (Compulsory & Ancillary)

    iv. Semester wise Course Contents - As per Syllabus  
    v. References and additional references ‐  Submitted already  
vi. Credit structure - vii. No. of lectures per Unit  -
    viii. No. of lectures per week / semester - 4 lectures per week
                  60 lectures per Semester  
2. Scheme of Examination ‐

3. Special notes, if any ‐  As per University Norms

4. Eligibility, if any ‐ As per University Norms

5. Free Structure ‐ As per University Norms

6. Special Ordinances / Resolutions, if any ‐


    F.Y. B.A. – HINDI COMPULSORY LIST OF TEXT BOOKS  
१ .काव्य ूदीप -: 
सपादक - डॉ .सयनारायण रणसभ

      ूकाशक - पिरदृँय ूकाशन 
दादी सतक लन ,धोबी तलाव मरीन लाइन्समबई
          पाठ्य-बम क िलए िनधािरत किवताय 
किव किवताए 
१ .मिथलीशरण गप्त िसिद्ध हत ःवामी गए
२ .अयोध्या िसह उपाध्याय हिरऔध फल और काटा
३ .माखनलाल चतवदी पंप की चाह
४ .सभिा कमारी चौहान झासी की रानी
५ .जयशकर ूसाद िहमािि तग ौग स
६ .सयकात िऽपाठी िनराला सध्या सदरी
७.महादवी वमा बीन भी ह म तम्हारी रािगनी भी ह
८ .बालकंण शमा नवीन किव कछ ऐसी तान सनाओ
९ .रामधारी िसह िदनकर िहमालय
१० .सिचदानद हीरानद वात्ःयायन अज्ञय कलगी बाजर की
११ .नागाजन अकाल
१२ .सवश्वर दयाल सक्सना िदवगत िपता क ूित
१३ .दंयत कमार ग़ज़ल


१४ .धिमल मोची राम
१५ .कदारनाथ िसह रोटी
१६ .अरुण कमल अपनी कवल धार
१७ .ओमूकाश वाल्मीकी घणा और ूम कहा स शरू होत ह
१८ .सरजपाल चौहान प्यारा िहदःतान

२ .आधिनक हाःय व्यग समह 
-:सपादक  -शकर पणताम्बकर

ूकाशक -पचशील ूकाशन
िफल्म कालोनी ,चौड़ा राःता जयपर -३०२००३
          पाठ्य-बम क िलए िनधािरत रचनाए 
१ .खरगोश क सीग - ूभाकर माचव
२ .भोलाराम का जीव -हिरशकर परसाई
३ .एक रल - सफ़र की बात - शकर पणताम्बकर
४ .अगद का पाव - ौी लाल शक्ल
५ .समःया सलझान म बिद्धजीवी का योगदान -शरद जोशी
६ .ूधान मऽी क्यों नही हसत ? ‐ लतीफ़ घोंघी
७ .घस एक िचकनाई ह - रवीन्ि कािलया
८ .िबकट इस इिडया एड इिडया इस िबकट  -घनँयाम अमवाल
९ .समझ किव की किवताई -ूम जन्मजय
१० .मौत की राजनीित -इश्वर शमा


११ .रुकी हई शन और बाित का बीज -ज्ञान चतवदी
१२ .भगवन बचाए महमान स - परण सरमा

३ .पऽ लखन
सझाव
-:िनमऽणबधाईिरक्त पद हत आवदन पऽ सपादक क नाम पऽ (िशकायत एव

४ .िनबध लखन 
-: सामािजक शक्षिणक आत्मकथात्मक वचािरक समसामियक

५ .व्याकरण-:

      १ .वाक्य पिरवतन- क (िविध िनषधवाचक ूश्नाथक िवःमयािदबोधक) 
          ख (सामान्य वाक्य सयक्त वाक्य िमौ वाक्य) 
      २ .वाक्य - रचना की शद्धता 
      ३.काल पिरवतन - वत्तमान काल भत काल भिवंय काल एव उनक उपभद. 
      ४ .वतनी की शद्धता 
      ५ .महावर तथा कहावतों का अथ एव ूवोग 
      ६ .िवशषण शब्दों की रचना 
      ७ .भाव वाचक शब्दों की रचना 
      ८ .िलग एव वचन पिरवतन) सज्ञा ,सवनाम तथा िवशषण शब्दों का 
ूथम सऽ यिनट का िवभाजन (काव्य ूदीप)
यिनट १ . व्याख्यान - ८  िसिद्ध हत ःवामी गए स िहमािि तग ौग स तक यिनट २   . व्याख्यान - ७ सध्या सदरी स िहमालय तक


आधिनक हाःय व्यग समह
यिनट ३  व्याख्यान - ८  खरगोश क सीग भोलाराम का जीव एक रल सफ़र की बात
यिनट ४  व्याख्यान – ७ अगद का पाव समःया सलझान म बिद्धजीवी का वोगदन ,
ूधान मऽी
          क्यों नही हसत 
यिनट ५ क (व्याख्यान - ७ पऽ लखन

        ख( व्याख्यान - ८ .  व्याकरण( -
पिरवतन वतनी की
          शद्धता ) 
वाक्य पिरवतनवाक्य रचना की शद्धता ,काल

यिनट ६ व्याख्यान - १५  ूःततीकरणवाचनलखनूकल्प चचा एव अन्य
रचनात्मक काय

िद्वतीय सऽ
 
(काव्य ूदीप)
 
यिनट 1
    व्याख्यान -८
    कलगी बाजर की स मोचीराम तक
यिनट 2
    व्याख्यान – 
    रोटी स प्यारा िहदःतान तक


आधिनक हाःय व्यग समह 
यिनट व्याख्यान – ८   घस एक िचकनाई ह स समझ किव की किवताई तक यिनट ४   व्याख्यान -७     मौत की राजनीित स भगवान बचाए महमान स तक यिनट ५  क (व्याख्यान -७   िनबध लखन

      ख( व्याख्यान - ८  .महावर तथा कहावतों का अथ एव ूवोग िवशषण
शब्दों की रचना ,



वचन पिरवतन 
भाव वाचक शब्दों की रचना िलग एव







यिनट ६ व्याख्यान -१५  ूःततीकरणवाचनलखनूकल्प चचा एव अन्य रचनात्मक काय
      समय २ घट  ूथम सऽान्त परीक्षा  कल अक ६०  
ूश्न पऽ का ूारूप िनयिमत िवद्यािथयों हत

ूश्न ११४ अक 
( दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प क साथ) 
सन्दभ सिहत व्याख्या ..

ूश्न २ दीघोर्त्तरी ूश्न अक 
( दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प क साथ)२०

ूश्न ३ िटप्पिणया (दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प क साथ १० अक (

ूश्न ४ अ८ अक 
( दो म स एक) 
पऽ लखन -

    ब कोष्ठक की सचना अनसार िनम्निलिखत ूश्नों क उत्तर - 
िलखि◌य

    १ वाक्य पिरवतन . 
अक २

    २२ अक 
वाक्य रचना शद्धीकरण  .

    ३  काल पिरवतन . 
अक २

    ४  वतनी की शद्धता . 
अक २

    समय २ घट  िद्वतीय सऽात परीक्षा  कल अक ६०

ूश्न १ .सन्दभ सिहत व्याख्या १४ अक 
( दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प क साथ).

ूश्न २ दीघोर्त्तरी ूश्न 
( दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प क साथ) २० अक

ूश्न ३ िटप्पिणया (दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प क साथ (  अक १०

ूश्न ४ अ 
( चार म स एक) 
िनबध लखन - 
अक ८

    ब कोष्ठक की सचना अनसार िनम्निलिखत ूश्नों क उत्तर िलिखय -  
    १ .महावर तथा कहावतों)  चार म स दो (  अक २ 
    २ .भाव वाचक सज्ञा शब्दों की रचना)  चार म स दो (  अक २ 
    ३ .िवशषण शब्दों की रचना)  चार म स दो ( अक २ 
    ४ .िलग तथा वचन पिरवतन)  चार म स दो अक २ 
आतिरक परीक्षण  दोनों सऽों हत -(िनयिमत िवद्यािथयों हत)  कल अक ४०

क कल दो कक्ष 
.परीक्षाए अक २०

ख एक रचनात्मक काय 
.ूकल्प आिद अक १०

ग कक्ष 
.िशक्षण क दौरान सिबय सहभािगता अक ५

घ अकादिमक गितिविधयों क 
.सचालन म नतत्व कशलतािशष्टाचार तथा िजम्मदार

    िवद्याथीर् क रूप म समम आचरण अक ५ 
X ‐‐‐X‐‐‐‐‐‐X‐‐‐‐‐‐X 
IDOL क िवद्यािथयों हत ूश्न-पऽ का ूारूप कल  घट ३ समय  
१०० अक

ूश्न १ 
( दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प सिहत) 
सन्दभ सिहत व्याख्या . 
अक १४

ूश्न २ दीघोत्तरी ूश्न (दोनों पःतकों स आतिरक िवकल्प सिहत (  अक २४


ूश्न ३सामान्य ूश्न 
(दोनों पःतकों म स,िकसी एक का उत्तर अपिक्षत  (  अक १०

ूश्न ४ क 
िटप्पिणया 
(दोनों पःतकों स िवकल्प सिहत (  अक १०

ख वःतिनष्ठ ूश्न 
(दोनों पःतकों स ६ 
( ६ - 
अक १२

ूश्न ५ च 
पऽ लखन 
(२ म स १ (  अक ८

छ ( १ म स 
४) िनबध लखन - 
अक १२

ूश्न ६ व्याकरण आधािरत ूश्न 
१० अक

No comments:

Post a Comment